UPSC की करना चाहते हैं तैयारी… तो ये खबर है आपके काम की, सभी डाउट्स होंगे क्लियर

UPSC Syllabus And Exam Pattern : आईएएस बनना देश के लाखों-करोड़ों युवाओं का सपना होता है। भारत की केन्द्रीय एजेंसी संघ लोक सेवा आयोग यानी यूपीएससी इसके लिए हर साल परीक्षा आयोजित कराती है। महज कुछ सीटों के लिए लाखों अभ्यर्थी देश की सर्वोच्च परीक्षा के लिए हर साल अपनी किस्मत आजमाते हैं।

UPSC की करना चाहते हैं तैयारी…

यदि आप भी सिविल सर्विसेज में अपना कॅरियर बनाना चाहते हैं और इसके बारे में बेसिक से जानना चाहते हैं, जैसे यूपीएससी परीक्षा का प्रारूप क्या है? इसके लिए कब और कैसे आवेदन करें? सिलेबस कैसा होता है? तो आपके सभी डाउट्स हम क्लीयर करेंगे।

एजुकेशन की बात करें तो ग्रेजुएट या ग्रेजुएशन फाइनल ईयर का कोई भी स्टूडेंट सिविल सर्विसेज एग्जाम के लिए आवेदन कर सकता है। आयु की न्यूनतम सीमा 21 वर्ष और अधिकतम 32 वर्ष है। एससी, एसटी वर्ग के उम्मीदवारों को पांच वर्ष और ओबीसी को तीन वर्ष की छूट है।

यूपीएससी परीक्षा का प्रारूप

  • यूपीएससी परीक्षा तीन चरणों में संपन्न होती है।
  • पहला होता है प्रिलिम्स, दूसरा मेंस और फाइनली इंटरव्यू।
  • प्रिलिम्स में दो-दो घंटे के दो पेपर होते हैं।
  • पहले पेपर के नम्बरों के आधार पर कट ऑफ तैयार होती है।
  • दूसरा पेपर CSAT क्वालिफाइंग होता है।
  • प्रीलिम्स क्लीयर करने के बाद मेंस में बैठने का मौका मिलता है।
  • पहले दो लैंग्वेज पेपर होते हैं, जो क्वालिफाइंग पेपर होते हैं।
  • ये तीन-तीन घंटे के पेपर्स होते हैं। एक इंडियन/रीजनल लैंग्वेज और दूसरा इंग्लिश।
  • इसके बाद तीन घंटे का एक निबंध का पेपर होता है, जिसमें दो निबंध लिखने होते हैं।
  • फिर होते हैं तीन-तीन घंटे के चार जनरल स्टडीज के पेपर।
  • इन सबके बाद ऑप्शनल पेपर होता है। जिसमें दो एग्जाम होते हैं।
  • ये परीक्षाएं पांच से सात दिनों तक चलती हैं।
  • फिर होता है इंटरव्यू। जिसके बाद रैंकिंग की लिस्ट तैयार की जाती है।
  • आईएएस, आईपीएस, आईएफएस और आईआरएस की सर्विस रैंकिंग के अनुसार एलॉट होती है।

jagran

यूपीएससी के लिए कब कर सकते हैं आवेदन

अभ्यर्थियों को ऑनलाइन फॉर्म भरने के ल‍िये पहले यूपीएससी की आध‍िकार‍िक वेबसाइट upsc.gov.in को ओपन करना होगा। वहां एग्‍जाम‍िनेशन सेक्‍शन में जाएं, जो आपको एक्‍ट‍िव एग्‍जाम‍िनेशन सेक्‍शन में म‍िलेगा। इस पर क्‍ल‍िक करने पर नई विंडो आेपन हो जाएगी। इसमें आपको यूपीएससी का पूरा नोटीफिकेशन मिलेगा।

यूपीएससी आवेदन में सुधार का नहीं देता है मौका

ऑनलाइन एग्‍जाम‍िनेशन एप्‍लीकेशन पर क्‍ल‍िक कर फॉर्म को ध्यानपूर्वक भरें और अपना साइन व फोटो अपलोड करें। यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के आवेदन में सुधार का मौका नहीं देता है। अगर आवेदन में कोई गलती रह गई है तो आपको फिर से नया आवेदन करना होगा। अगर आप एक से ज्यादा आवेदन कर रहे हैं तो आपके जिस आवेदन का रजिस्ट्रेशन नंबर ज्यादा होगा, उसे ही स्वीकार किया जाएगा।

प्रश्नों की प्रवृत्ति को समझें

प्रिलिम्स में उम्मीदवार की मानसिक योग्यता का परीक्षण किया जाता है। इसमें पूछे जाने वाले प्रश्न घुमावदार होते हैं और इसके लिए रेगुलर प्रैक्टिस की जरूरत होती है। कुछ प्रश्न पैसेज के रूप में भी पूछे जाते हैं। इस परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का भी प्रावधान है। गलत उत्तर दिए जाने पर एक तिहाई अंक काट लिए जाएंगे।

हालांकि इसमें डिसीजन मेकिंग के प्रश्नों के लिए निगेटिव मार्किंग का अलग तरीका है। इन प्रश्नों में गलती के हिसाब से अंक काटे जाते हैं। इसलिए प्रश्नों का उत्तर देते समय सावधानी बरतें। जो नहीं समझ में आ रहा है उस पर समय खर्च करने की बजाए छोड़कर आगे बढ़ जाएं। बाद में इन्हें एक बार देख लें।

निबंध के लिये बनाए रणनीति

निबंध के पेपर में आपके वृहद ज्ञान, भाषा और अभिव्यक्ति का मूल्यांकन होता है। यदि आप अपने विचारों और समझ को स्पष्ट व व्यवस्थित तरीके से लिख सकते हैं, तो एक अच्छा निबंध लिखने के लिए श्रेय आपको जरूर मिलेगा।

विषयों का विस्तृत अध्ययन और नियमित अभ्यास से इसे बेहतर किया जा सकता है। इसके लिए जरूरी है कि आप समसामयिक मामलों से अपडेट रहें। राष्ट्रीय समाचार पत्रों के संपादकीय जरूर पढ़ें, इससे आपके भीतर विचार-प्रक्रिया का विकास होगा। इससे आपकी समझ और अभिव्यक्ति स्पष्ट और प्रभावी होगी।

 

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap